मधु मुक्तक

बंद अभी करता मधुशाला,
अब न पियूंगा बिल्कुल हाला|
साकी की आँखें प्यासी हैं,
हा! ये मैने क्या कर डाला|

**********

नशे में बोलती हैं आदमी के दिल की आवाज़ें,
होशवालों की ज़ुबान में आवाज़ नहीं होती |

**********

तेरी नज़रों के पैमाने लुढ़क गये हम पर,
वरना हम यूँ नशा नहीं करते |

**********

कल जो लब से पिलाई थी उसने,
हम अभी भी उसी असर में हैं |

**********

सुबह सुबह बोतल शराब की बातें,
ये तेरी इंक़लाब की बातें;
होश आएगा भूल जाएगा,
हैं ये सारी ही ख्वाब की बातें |

**********


Comments

Popular posts from this blog

EVM Politics in UP Assembly Elections

ये खोज अंतर्मुखी है...

मात्र भाषा नहीं, मातृभाषा है हिन्दी